दहेज में बाइक न देने पर शख्‍स ने कर दी थी पत्‍नी की हत्‍या, अब कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा


गोपालगंज. बिहार के गोपालगंज जिले से एक बड़ी खबर सामने आ रही है. दहेज हत्‍या के मामले में मृतका के पति को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. कोर्ट ने 4 साल पुराने मामले में यह सजा सुनाई है. दोषी पति पर अर्थदंड भी लगाया गया है. यह मामला वर्ष 2017 का है. ससुरालियों पर दहेज में बाइक मांगने और मांग पूरी न होने पर महिला की हत्‍या करने का आरोप लगाया गया था. कोर्ट में आरोप सिद्ध होने के बाद पति को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है. वहीं, अन्‍य आरोपियों के खिलाफ फिलहाल जांच चल रही है.

जानकारी के अनुसार, गोपालगंज में दहेज हत्या के 4 साल पुराने मामले में एडीजे-8 नर्वदेश्वर पांडेय की कोर्ट ने पति को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई. साथ ही 10 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है. कोर्ट ने अपर लोक अभियोजक परवेज हसन तथा बचाव पक्ष के अधिवक्ता अवधेश मिश्र की दलीलों को सुनने के बाद अपना फैसला सुनाया है. अपर लोक अभियोजक परवेज हसन ने बताया कि मांझागढ़ थाना क्षेत्र के डुमरिया गांव के रहने वाले अरविंद तिवारी की शादी साल 2017 में इसी थाना के बथुआ गांव के रहने वाले कन्हैया पांडेय की बेटी निधी देवी के साथ हुई थी. शादी के 7 महीने बाद ही दहेज में बाइक देने की मांग पूरी नहीं होने पर ससुरालियों ने निधी की 11 अप्रैल 2018 को चाकू मारकर हत्या कर दी थी.

पति की दूसरी शादी से नाराज़ थी पहली पत्नी, घर में लगाई आग, 4 लोगों की जलकर मौत 

इस कांड में निधि के पिता कन्हैया पांडेय की तहरीर पर मांझा थाने में मामला दर्ज किया गया था. कन्‍हैया ने इसमें अपने दामाद अरविंद तिवारी और उनके भाई पुरुषोत्तम तिवारी, उनकी पत्नी अमृता देवी उर्फ माया देवी तथा बिटू उार्फ मिंटू को नामजद अभियुक्त बनाया था.

निधी की हत्या के बाद ही मांझागढ़ पुलिस ने उनके पति अरविंद तिवारी को गिरफ्तार कर लिया था और 90 दिनों के भीतर आरोपपत्र दाखिल कर दी गई थी. बाकी आरोपितों के खिलाफ पुलिस की जांच अभी जारी है. अपर लोक अभियोजक परवेज हसन ने बताया कि चार्जशीट दाखिल होने के बाद एडीजे-8 की अदालत में मामले की सुनवाई शुरू हुई थी. बाकी आरोपियों के खिलाफ जांच पूरी होने के बाद सुनवाई की जाएगी.

Tags: Crime News, Gopalganj news



Source link

%d bloggers like this: